Prateek`s Book

I know my all friends waiting for this from long time but very soon it will Reveal
***********  Coming Soon  ***********

--------- प्रतीक भट्ट की कलम से


लोग कहते है, मेरा सपना टूट गया,
  मैं कहता हु, टूटती नींद है सपने नहीं

सत्ता और शिखर हमेशा नहीं रहते......

तरक्की की लिए सबसे ज़रूरी कुछ है तो वो है निरंतरता

Sometimes You Wins and sometimes you not win but learn.

Excellence should not be an act, it should be habit

राहु माया है इसलिए मिथ्या है केतु मोक्ष है सत्य है

*भावनाओ में बहना वाला उसी तरह कमजोर है
 जैसे तेज पानी में बहने वाला इंसान 
 चन्द्रमा के उपाय ज़रूर करने चाइये, क्योकि रोज मर्रा की ज़िन्दगी नरक बनने में कमजोर चन्द्रमा का ही  योगदान है 

*हाथो की लकीरो से पाओगे उतना 
  वासुदेव ने लिखा होगा जितना !!!!!
*हम सूर्य का उजाला तभी देख पाते है 
जब हमने रात को गुजारा हो ..

*लम्बी रेस के घोड़े झाड़ियो में नहीं फंसते

*दशा और दिशा ऊपर वाला ही तय करता है

*बड़े काम के लिए धुन के पक्के लोग चाहिए होते है न की सिर्फ दिमाग के तेज़

*राहु की माया केतु का जाल 
जो समझ न पाया उसका हुआ बुरा हाल 

*राहु का गोचर अब आएगा फिर कुछ महीनो बाद गुरु बदल जायेगा 
आप मेहनत करते रहे उपरवाले की रहमत से भाग्य भी बदल जायेगा


*ये राहु तो छलावा है दिखावा है बहकावा है सब मिथ्या है !!!!
राहु ने बनाया राहु ने उठाया , राहु ने रातो रात नाम भी फैलाया 
अब राहु ने ही गिराया , सब नेस्तनाबूत भी कराया 
सूर्य गुरु का महत्व इसीलिए बहुत अधिक है, ज़िन्दगी में सब संतुलन के साथ देते है ये दोनों....

*कुछ पाने की ज़िद और अथक लगन कभी कभी बहुत कुछ दे देती है ज़िन्दगी में !!!!!

*ज़िन्दगी से वफ़ा कर लीजिये या ज़िन्दगी आप से वफ़ा कर ले !!
इन दोनों में से अगर एक वफ़ा भी हो जाये तो कुछ हो न हो, लेकिन ज़िन्दगी बन जाती है 

*हसरते न दबाओ मेहनत बढ़ाओ 
चादर के हिसाब से पैर मत फैलाओ, चादर बढ़ाओ.....


*Technology Trend you but Astrology Mentor you and without mentor Technology ??.... !!!!!
*ज्ञानी ही मानी होता है, और ज्ञानी कौन है "बृहस्पति "
अब मान घमंड में चूर है या मान सिर्फ गर्व , इसको देखने के लिए गुरू का सुक्ष्म अध्ययन करना होगा कुंडली में...
खास तौर पर उसकी वक्रता पर ध्यान देना बहुत ज़रूरी है फिर नक्षत्र और राशि ......कभी डिटेल में और बताऊंगा .

*काम का आलस और पैसो का लालच 
महान नहीं बनने देता


*उठाना खुद ही पड़ता है, थका टूटा बदन अपना,
जब तक सांस चलती है, कोई कंधा नहीं देता |

*धीरे धीरे रे मन, धीरे सब कुछ होए
माली सींचे सो घरा ऋतू आये फल होए
वैसे ही ग्रह भी समय आने पर ही फल देंगे 
हर ग्रह की परिपक्व होने की एक उम्र होती है तभी वो फल देता है

*वक़्त का इंतज़ार करना सीख लीजिये या वक़्त इंतज़ार करना सीखा देगा, क्योकि ये वक़्त ग्रहो का गुलाम है.. अच्छा चन्द्रमा वक़्त का इंतज़ार शांति से करवा देगा और ख़राब शांति से वक़्त काटने नहीं देगा(मानसिक अशांति)

*हर सुबह मैं अपनी आँखे खोलता हूँ उस भविष्य को सँवारने के लिए जो मेरे लिए खास है, हर रात मैं अपनी आँखे बंद करताऔर देखता हूँ कि मेरा लक्ष्य थोड़ा और मेरे पास है!!!!!!

*देश दशा काल माहौल का महत्व ज्योतिष में:
कर्ण अर्जुन से कमजोर नहीं थे लेकिन देश दशा काल और माहौल ने अर्जुन को भारी बना दिया, वैसे ही मोदी भारी थे लेकिन देश दशा काल माहौल ने बिहार के जाती समीकरण ने हरा दिया..इसीलिए हमेशा कहता हु देश दशा काल और माहौल बहुत मत्वपूर्ण है ज्योतिष फलादेश में


*कुंडली में केन्द्रो में बैठे शुभ ग्रह कुंडली को बल देते है इनकी अनुपस्थिति केन्द्रो में और पापी ग्रहो की अधिकता देर और संघर्ष कराती है

दूर से हमें आगे के सभी रास्ते बंद नजर आते हैं क्योंकि सफलता के रास्ते हमारे लिए तभी खुलते जब हम उसके बिल्कुल करीब पहुँच जाते है|

10 comments:

  1. release early..

    ReplyDelete
  2. waiting............

    ReplyDelete
  3. Eagerly waiting, world best astrologer books.....

    ReplyDelete
  4. It will hit the market, Best astrologer and best book

    ReplyDelete
  5. I know it will become world no 1 Selling book

    ReplyDelete
  6. Thanks for launching book, from past many years I am waiting for your book

    ReplyDelete
  7. Sir You are gems of astrology..... You reveal lot of secrets openly in this site which shows your humanity, i saw many astrologers they did not write about secrets of their research because of insecurity issue but you done that.Really Champ. I can assume when you will launch your book then how much depth and secret you will reveal it will be history in Indian astrology... Plz launch early, waiting.thanks lot!!!!!!

    ReplyDelete
  8. Will the book be also in English?

    ReplyDelete
  9. Will the book be published in English?

    ReplyDelete